1. 130

    सनात्सनातनतमः कपिलः कपिरव्ययः । स्वस्तिदः स्वस्तिकृत्स्वस्ति स्वस्तिभुक्स्वस्तिदक्षिणः ॥ ९६॥

    897. Sanat: The Object of enjoyment. 898. Sanatana-tamah: The Most Ancient. 899. Kapilah: He Who is of beautiful complexion. 900. Kapir-avyayah: He Who enjoys the never-diminishing Bliss. 901. Svasti-dah: The Giver of Auspiciousness. 902. Svasti-krt: The Doer of good to the devotees. 903. Svasti: He Who is Auspiciousness. 904. Svasti-bhuk: The Protector of all that is auspicious. 905. Svasti-dakshinah: He Who gives auspicious things as Dakshina to his devotees.

    897. सनत्: आनंद का विषय। 898. सनतन-तमः: सबसे पुराना। 899. कपिलः: जिनका रंग सुंदर है। 900. कपिर्-अव्ययः: जो कभी कम नहीं होने वाले आनंद का आनंद करते हैं। 901. स्वस्ति-दः: शुभता का दाता। 902. स्वस्ति-कृत्: भक्तों के लिए अच्छा करने वाला। 903. स्वस्ति: जो शुभ है। 904. स्वस्ति-भुक्: सभी शुभ चीजों का संरक्षक। 905. स्वस्ति-दक्षिणः: अपने भक्तों को दक्षिणा के रूप में शुभ चीजें देने वाला।