1. 75

    उद्भवः क्षोभणो देवः श्रीगर्भः परमेश्वरः । करणं कारणं कर्ता विकर्ता गहनो गुहः ॥ ४१॥

    375. Udbhavah: He who removes and is beyond the bondage of samsara. 376. Khsobhanah: The Creator of beauty. 377. Devah: He who is the light. 378. Sri-garbhah: He who has Lakshmi in Him in the form of the Universe. 379. Paramesvarah: The Supreme God. 380. Karanam: The Means. 381. Karanam: The Cause. 382. Karta: The Agent. 383. Vikarta: He who undergoes modifications. 384. Gahanah: He who is deep. 385. Guhah: The Savior.

    375. उद्भवः: वह जो संसार के बंधन को दूर करते हैं और उसके परे हैं। 376. ख्सोभणः: सौन्दर्य का निर्माता। 377. देवः: वह जो प्रकाश है। 378. श्रीगर्भः: वह जिसमें ब्रह्मांड के रूप में लक्ष्मी है। 379. परमेश्वरः: परम ईश्वर। 380. कारणम्: कारण। 381. करणम्: कारण। 382. कर्ता: कर्ता। 383. विकर्ता: वह जो परिवर्तन करते हैं। 384. गहनः: वह जो गहरा है। 385. गुहः: उद्धारक।