1. 18

    जुग सहस्र जोजन पर भानु । लील्यो ताहि मधुर फल जानू ॥ १८ ॥

    You swallowed the sun, located thousands of miles away, mistaking it to be a sweet, red fruit! ॥ 18 ॥

    जो सूर्य इतने योजन दूरी पर है की उस पर पहुँचने के लिए हजार युग लगे।दो हजार योजन की दूरी पर स्थित सूर्य को आपने एक मीठा फल समझकर निगल लिया। ॥ १८ ॥