1. 5

    तुम संसार शक्ति लै कीना। पालन हेतु अन्न धन दीना ॥ ५ ॥

    All the powers of the world repose in thee and it is you who provide food and money for the world’s survival. ॥ 5 ॥

    संसार के सभी शक्तियों को आपने अपने में समेटा हुआ है। जगत के पालन हेतु अन्न और धन प्रदान किया है। ॥ ५ ॥