1. 34

    अन्त काल रघुबर पुर जाई । जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई ॥ ३४ ॥

    By your grace, one will go to the immortal abode of Lord Rama after death and remain devoted to Him. ॥ 34 ॥

    अंत समय श्री रघुनाथ जी के धाम को जाते है और यदि फिर भी जन्म लेंगे तो भक्ति करेंगे और श्री राम भक्त कहलायेंगे। ॥ ३४ ॥