1. 33

    तुह्मरे भजन राम को पावै । जनम जनम के दुख बिसरावै ॥ ३३ ॥

    When one sings Your praise, Your name, He gets to meet Lord Rama and finds relief from the sorrows of many lifetimes. ॥ 33 ॥

    आपका भजन करने से श्री राम जी प्राप्त होते है, और जन्म जन्मांतर के दुःख दूर होते है। ॥ ३३ ॥