1. 2

    निरंकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी ॥ २ ॥

    The radiance of your light is limitless and pervading and all the three realms (Earth, Heaven and the Nether World) are enlightened by thee. ॥ 2 ॥

    आपकी ज्योति का प्रकाश असीम है, जिसका तीनों लोको (पृथ्वी, आकाश, पाताल) में प्रकाश फैल रहा है। ॥ २ ॥