1. 7

    न यावद् उमानाथपादारविन्दम्। भजन्तीह लोके परे वा नराणाम्। न तावत्सुखम् शान्ति सन्तापनाशम्। प्रसीद प्रभो सर्वभूताधिवासम् ॥ ७ ॥

    Husband of Parvati, till we worship your lotus feet, We can never attain peace and joy in this world or in heaven, Or mitigate or lessen our suffering, Lord who resides in the heart of all, be pleased with me and my offering. ॥ 7 ॥

    हे पार्वती के पति, जबतक मनुष्य आपके चरण कमलों को नहीं भजते, तब तक उन्हें न तो इसलोक में न परलोक में सुख शान्ति मिलती है और न ही तापों का नाश होता है। अत: हे समस्त जीवों के अंदर (हृदय में) निवास करने वाले प्रभो, प्रसन्न होइये। ॥ ७ ॥