1. 3

    तुषाराद्रिसंकाशगौरम् गभीरम्। मनोभूतकोटि प्रभाश्रीशरीरम्। स्फुरन्मौलि कल्लोलिनी चारुगंगा। लसद्भालबालेन्दु कण्ठे भुजंगा ॥ ३ ॥

    Fair-skinned like Himanchal, serene, unmoved, Of beauty and grace greater than a million Kamadevas, ever glowing, Upon whose head resides the sacred Goddess Ganga, Upon whose head is the crescent moon, whose neck is adorned by a snake. ॥ 3 ॥

    जो हिमाचल समान गौरवर्ण व गम्भीर हैं, जिनके शरीर में करोड़ों कामदेवों की ज्योति एवं शोभा है,जिनके सर पर सुंदर नदी गंगा जी विराजमान हैं, जिनके ललाट पर द्वितीय का चंद्रमा और गले में सर्प सुशोभित है। ॥ ३ ॥