1. 6

    रत्नपादुकाप्रभाभिरामपादयुग्मकं नित्यमद्वितीयमिष्टदैवतं निरंजनम् । मृत्युदर्पनाशनं करालदंष्ट्रमोक्षणं काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥ ६ ॥

    Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, whose feet are adorned with two golden sandals with gems; who is the eternal, non-dual Ishta devata (god who grants our desires); who destroys the pride of Yama (God of Death); whose terrible teeth liberate us. ॥ 6 ॥

    जिन्होंने रत्नयुक्त पादुका (खड़ाऊ) धारण किये हैं, और जिनकी कांति अब सुशोभित है, जो नित्य निर्मल, अविनाशी, अद्वितीय है तथा सब के प्रिय देवता है, जो मृत्यु का अभियान दूर करने वाले हैं, तथा काल के भयानक दाँतों से मुक्ति प्रदान करते है, ऐसे काशीपुरी के स्वामी का मैं भजन (आराधना) करता हूँ. ॥ ६ ॥