1. 2

    भानुकोटिभास्वरं भवाब्धितारकं परं नीलकण्ठमीप्सितार्थदायकं त्रिलोचनम् । कालकालमंबुजाक्षमक्षशूलमक्षरं काशिका पुराधिनाथ कालभैरवं भजे ॥ २ ॥

    Salutations to Lord Kalabhairava, the supreme lord of Kashi, who has the brilliance of a million suns, who saves devotees from the cycle of rebirths, and who is supreme; who has a blue throat, who grants us our desires, and who has three eyes; who is death unto death itself and whose eyes look like a lotus; whose trident supports the world and who is immortal. ॥ 2 ॥

    जो करोड़ो सूर्यो के समान तेजस्वी है,संसार रूपी समुद्र को तारने में जो सहायक हैं, जिनका कंठ नीला है, जिनके तीन लोचन है, और जो सभी ईप्सित अपने भक्तों को प्रदान करते है, जो काल के भी काल (महाकाल) है, जिनके नयन कमल की तरह सुंदर है, तथा त्रिशूल और रुद्राक्ष को जिन्होंने धारण किया है, ऐसे काशीपुरी के स्वामी का मैं भजन (आराधना) करता हूँ. ॥ २ ॥